CG इंदिरा वन मितान योजना 2022 आदिवासी युवा सहायता रजिस्ट्रेशन

CG इंदिरा वन मितान योजना 2022 आदिवासी युवा सहायता रजिस्ट्रेशन, cg indira van mitan yojana:- इंदिरा वन मितान योजना पात्रता लाभ जरूरी दस्तावेज एवं आवेदन फार्म ऑनलाइन

नमस्कार दोस्तों आज हम आप को एक नयी योजना की जानकरी देने जा रहे है. छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू की जा रही एक नई योजना है जिसके तहत राज्य में वनवासियों के विकास के लिए कई कार्य किए जाएँगे। इस नई योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य में वनवासियों को खुशहाल और वनांचल के गांवों को स्वावलंबी बनाना है।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने 09 अगस्त 2020 को विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर इस नई इंदिरा वन मितान योजना के शुभारंभ की घोषणा की। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी द्वारा योजना की शुरुआत करते हुए कहा गया कि इस योजना के तहत राज्य में आदिवासी अंचल के 10000 गांव में युवाओं के समूह गठित कर उन के माध्यम से 1 आधारित समस्त आर्थिक गतिविधियों का संचालन किया जाएगा.

इंदिरा वन मितान योजना

इसके अतिरिक्त वनवासियों के स्वरोजगार और उनकी समृद्धि के नए द्वार खुलेंगे इस योजना के तहत समूह के माध्यम से वनोपज की खरीदी उसका प्रकरण व मार्केटिंग की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी. छत्तीसगढ़ सरकार का कहना है कि इस योजना से 19 लाख छत्तीसगढ़ परिवारों को जोड़ा जाएगा. Indira Van Mitan Yojana के माध्यम से सरकार अनुसूचित जाति के 85 विकासखंड में वनोपज प्रोसेसिंग यूनिट स्थापना के लिए 8 करोड़ इंदिरा बंद मितान योजना 50 लाख रुपए की राशि उपलब्ध करवाई जाएगी.

इन समूहों के माध्यम से वनवासियों के स्वरोजगार और उनकी समृद्धि के नए द्वारा खुलेंगे। इस योजना के तहत समूहों के माध्यम से वनोपज की खरीदी, उसका प्रसंस्करण एवं मार्केटिंग की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। राज्य के प्रत्येक आदिवासी विकासखण्डों में वनोपज प्रसंस्करण केन्द्र की स्थापना किए जाने का लक्ष्य सरकार ने रखा है।

indira van mitan yojana

समूह के माध्यम से लोगों के लिए स्व-रोजगार के नए अवसर निर्मित होंगे। वनोपजों की मार्केटिंग की व्यवस्था के साथ अनुसूचित क्षेत्रों के प्रत्येक विकासखण्ड में वनोपज प्रोसेसिंग यूनिट की स्थापना की जाएगी। एक यूनिट की अनुमानित लागत लगभग 10 लाख रूपए होगी।

इन्दिरा वन मितान योजना के तहत छत्तीसगढ़ राज्य के आदिवासी अंचल के 10,000 गावों में युवाओं के समूह गठित कर उनके माध्यम से वन आधारित प्रोडक्ट का का विकास और उनके लिए मार्किट उपलब्ध करना तथा वन वासियो द्वारा समस्त आर्थिक गतिविधियों का संचालन किया जाएगा। 10 से 15 सदस्यों के इन समूहों में वनवासी युवाओं को ही प्राथमिकता दी जाएगी। योजना के तहत प्रत्येक आदिवासी विकासखण्ड में वनोपज प्रसंस्करण केन्द्र की भी स्थापना की जाएगी।

इंदिरा वन मितान योजना 2020

योजना के प्रमुख लाभ

  1. रोजगार, स्वरोजगार का लाभ
  2. आय में बढ़ोतरी का लाभ|
  3. वन प्रबंधक के अधिकार का लाभ|
  4. विकासखंड में वनोपज प्रोसेसिंग यूनिट का लाभ|
  5. वनवासियों की आय में बढ़ोतरी के लिए आप इमारती लकड़ी, फलदार पौधे, जड़ी बूटियां का पौधारोपण|
  6. योजना के अंतर्गत 5-6 लाख लोग जुड़ेंगे|
  7. जहां पहले छत्तीसगढ़ में 7 प्रकार के लघु वनोपज की खरीदी होती थी| वही अब इसकी संख्या बढ़ाकर 31 कर दी गई है|

इंदिरा वन मितान स्कीम पात्रता

  1. छत्तीसगढ़ का निवासी :- इस योजना का लाभ केवल छत्तीसगढ़ के निवासी ही ले सकते हैं. अन्य राज्यों के लिए यह योजना नहीं है.
  2. वनी इलाकों में रहने वाले युवा :- इस योजना का लाभ लेने वाले युवा वनी इलाकें से संबंधित होना चाहिये.
  3. जाति पात्रता :- इस योजना में जाति पात्रता के आधार पर अनुसूचित जाति एवं जनजाति के लोगों को ज्यादा लाभांवित किया जायेगा. इसके साथ ही आदिवासी समाज के लोगों को भी इसमें लाभ दिया जायेगा.

वनोपज प्रसंस्करण केन्द्रों की स्थापना जानकारी

इन्दिरा वन मितान योजना के तहत अनुसूचित क्षेत्रों के 85 विकासखण्ड में शुरू होने वाले वनोपज प्रोसेसिंग केन्द्रों के लिए 8 करोड़ 50 लाख रूपए की राशि खर्च की जाएगी। प्रत्येक केंद्र की स्थापना के लिये लगभग 10 लाख रुपए दिये जाएँगे। इन प्रोसेसिंग सेंटर्स की मदद से वन में पैदा होने वाली सभी प्रकार की उपज का प्रसंस्करण किया जाएगा जिसको बेचने और मार्केटिंग का अधिकार समूहों के पास होगा। विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि इस योजना के तहत, वन आधारित आर्थिक गतिविधियों का प्रबंधन करने के लिये आदिवासी बहुल क्षेत्रों के लगभग 10,000 गाँवों में युवाओं के समर्पित समूह का गठन किया जाएगा।

जरूरी कागजात

  1. आधार कार्ड।
  2. निवास प्रमाण पत्र।
  3. जाति प्रमाण पत्र।
  4. पासपोर्ट साइज फोटो।
  5. मोबाइल नंबर।
  6. बैंक अकाउंट।

इंदिरा वन मितान योजना रजिस्ट्रेशन / आवेदन फार्म

  1. इंदिरा वन मितान योजना का लाभ लेने के लिए लाभार्थी को योजना संवधित कार्यालय में जाना है।
  2. अब आपको वहां के अधिकारी दवारा योजना के लिए आवेदन फार्म दिया जाएगा।
  3. आपको इसमें दी गई सारी जानकारी भरने के साथ आव्श्यक दस्तावेज अटैच करने होगें।
  4. उसके बाद आपको इस फार्म को जमा करवा देना है।
  5. सारी प्रक्रिया और जांच होने के बाद आपको योजना का लाभ मिल जाएगा।    

Leave a Comment

Your email address will not be published.